15 years celebrating The Mahatma
  • निदेशक संदेश

    पशु आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो व राष्ट्रीय पशु आनुवंशिक संस्थान जुड़वां संस्थानों के रूप में 21 सितंबर 1984 को बंगलौर में स्थापित हुए तथा 1985 में करनाल में स्थानांतरित कर दिये गए । राष्ट्रीय पशु आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो को एक एकल इकाई के रूप में कार्य करने के लिए दोनों का वर्ष 1995 में विलय कर दिया गया । यह अग्रणी संस्थान अपने अनुदेश के अनुरूप देश के पशुधन व कुक्कुट आनुवंशिक संपदा की पहचान, मूल्यांकन, लक्षण निर्धारण, संरक्षण व चिरस्थाई उपयोग बढ़ाने वाले कार्यों के प्रति समर्पित है ।

    ब्यूरो ने नवीन अनुसंधान में विशेषता देश के विस्तरित पशुधन जैव विविधता में आनुवंशिक क्षमता की पहचान और उसके सतत विकास के लिए एक लंबी यात्रा का प्रयास आरंभ किया है । प्रमुख उपलब्धियों में 90% से अधिक गाय, भैंस, भेड़, बकरी, घोड़े, ऊंट, और कुक्कट पंजीकृत नस्लों के आनुवंशिक लक्षण निर्धारण है । विभिन्न नस्लों में विभिन्न प्रतिभागी जीन्स जोकि उत्पादन, पुन्र उत्पादन, पर्यावरण के प्रति अनुकूलता व रोग प्रति रोधात्मक क्षमता पैदा करने के प्रति उत्तरदायी, 1600 एस. एन. पी. से अधिक की पहचान, उत्तर पूर्वी पर्वतीय क्षेत्र की मणीपुरी भैंस (2N = 48) होने का पता लगना, स्वदेशी गाय नस्लों में वाछंनीय ए-2,    .....और पढ़ें

आने वाली गतिविधियाँ

NBAGR ACTIVITIES
71st Independence Day Celebration  71st Independence Day Celebration 71st Independence Day Celebration   माननीय निदेशक महोदय व डॉ. अनिल कुमार मिश्र के साथ 2016-17 का द्वितीय राजभाषा पुरस्कार प्राप्त करते हुए Mera Gaon Mera Gaurav Mera Gaon Mera Gaurav  Mahatma Gandhi Jayanti 2 October 2018 Mahatma Gandhi Jayanti 2 October 2018 Mera Gaon Mera Gaurav DDG (AS) Dr. J.K.Jena plantation in NBAGR  DDG visit NBAGR Computer Center Jai Kishan Jai Vigyan Ganesh Shankar Hindi Award ICAR-Jawaharlal Nehru Award for P.G. Outstanding Doctoral Thesis Research in Agricultural and Allied Sciences 2017
AnGR के पंजीकरण के लिए दिशा निर्देश    AnGR के प्रबंधन के लिए दिशा निर्देश

एनबीएजीआर गतिविधियाँ

  • पशु अनुवांशिक सम्पदा के गुण निर्धारण व पंजीकरण विषय पर इंटरैक्टिव मीट

    पशु अनुवांशिक सम्पदा के गुण निर्धारण व पंजीकरण विषय पर इंटरैक्टिव मीट (03-12-2018)

    भाकृअनुप एवं राष्ट्रीय पशु अनुवांशिक संसाधन ब्यूरो द्वारा दिनांक 3 दिसंबर 2018 को नास्क परिसर, नयी दिल्ली में पशु अनुवांशिक सम्पदा के गुण निर्धारण व पंजीकरण विषय पर एक इंटरैक्टिव मीट का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन डेयर सचिव एवं भाकृअनुप के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्रा द्वारा किया गया | इस अवसर पर डॉ. पात्रा ने देश की पशु अनुवांशिक सम्पदा के शीघ्र गुण निर्धारण व पंजीकरण पर बल दिया | इस अवसर पर डॉ. जे. के. जेना, डीडीजी (पशु विज्ञान), डॉ. आर्जव शर्मा, निदेशक, डॉ. एस. होनाप्पागोल, 16 राज्यों के पशु पालन एवं पशु विकास बोर्डों के वरिष्ठ अधिकारी, 2 कुलपतियों सहित 12 राज्य विश्वविद्यालयों के प्रोफेसर, भाकृअनुप संस्थानों के 45 निदेशक/ वैज्ञानिक उपस्थित थे |
  • कुशल सहायक स्टाफ की योग्यता वृद्धि एवं व्यक्तित्व विकास हेतु प्रशिक्षण

    "कुशल सहायक स्टाफ की योग्यता वृद्धि एवं व्यक्तित्व विकास हेतु प्रशिक्षण"

    भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के मानव संसाधन विकास कार्यक्रम के अंतर्गत राष्ट्रीय पशु आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो, करनाल में कुशल सहायक स्टाफ हेतु तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम 29-31 अगस्त, 2017 का आयोजन किया गया I करनाल में स्थित भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद् के 6 संस्थानों के 18 प्रतिभागियों नें इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया I इस जागरूकता प्रशिक्षण कार्यक्रम में 11 वक्ताओं द्वारा व्यक्तिगत विकास एवं योग्यता वृद्धि सम्बंधित बुनियादी विषयों पर व्याख्यान तथा प्रैक्टिकल जानकारी प्रदान की गई I पूरे कार्यक्रम का संचालन राजभाषा हिंदी में किया गया I
  • अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस

    “अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस”

    एनबीएजीआर ने 21-22 मई , 2017 को अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस मनाया। इस अवसर पर डॉ जोयकृष्ण जेना , उप महानिदेशक (पशु एवं मत्स्य विज्ञान), आईसीएआर मुख्य अतिथि थे और डॉ. आर.एस. गांधी (एडीजी) और आरआरबी सिंह (निदेशक, एनडीआरआई, करनाल) मुख्य मेहमान थे और निदेशक (आईसीएआर-एनबीएजीआर) करनाल ने समारोह की अध्यक्षता की । ब्रीड सेवियर अवार्ड -2016 के लिए 9 राज्यों के कुल 20 किसानों/ लाइवस्टॉक कीपर्स का चयन सेवा (SEVA ), मदुरई द्वारा किया गया । इस अवसर पर स्कूल के विद्यार्थियों और आईसीएआर-एनबीएजीआर, करनाल के रिसर्च स्कॉलर्स के लिए विषय "जैव विविधता और उसके संरक्षण" विषय पर एक पोस्टर प्रतियोगिता भी आयोजित की गई थी। समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. जेना ने कहा कि घरेलू पशु विविधता का संरक्षण इस समय की आवश्यकता है और सभी स्टेकहोल्डर्स को इस महान कार्य में योगदान देना चाहिए।
  • मेरा गांव मेरा गौरव

    "मेरा गांव मेरा गौरव (मार्च -2017)"

    आईसीएआर-एनबीएजीआर ने आईसीएआर-आईएआरआई क्षेत्रीय स्टेशन के साथ मिलकर दोनों ने मेरा गांव मेरा गौरव प्रोग्राम के तहत करनाल के आसपास के गांवों में विभिन्न विस्तार गतिविधियों को अंजाम दिया । लाइवस्टॉक कीपर्स और किसानों को उनके द्वारा कृषि और पशुपालन प्रथाओं में अच्छा कार्य के लिए दोनों संस्थानों के वैज्ञानिकों द्वारा पुरस्कृत किया गया । विभिन्न विषयों से संबंधित किसानों की सभी प्रश्नों को भी संबोधित किया गया ।
  • स्थापना दिवस समारोह

    "स्थापना दिवस समारोह"

    ब्यूरो ने अपना 34 वें स्थापना दिवस 21 सितंबर 2017 को मनाया, जिसमें डॉ के एम.एल. पाथक ( उप-कुलपति, यूपीपीडीपीवीवी, मथुरा) मुख्य अतिथि थे जिन्होंने स्थापना दिवस पर व्याख्यान दिया ।डॉ आर.एस. गांधी (एडीजी, एपी और बी, आईसीएआर) और श्री उमेश कुमार शर्मा (डीजीएम, केनरा बैंक, करनाल) सम्मानित अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस अवसर पर वैज्ञानिक डॉ रेखा शर्मा को पिछले 3 वर्षों (जनवरी, 2014 से दिसंबर, 2016) के दौरान उनके द्वारा किये गए उत्कृष्ट योगदान के लिए " डॉ पीजी नायर अवार्ड-2017 " से सम्मानित किया गया। विभिन्न पशु प्रजातियों की नस्लों के संरक्षण में लाइवस्टॉक कीपर्स के योगदान के लिए उन्हें नस्ल संरक्षण पुरस्कारों से सम्मानित किया गया ।
और ...